शीतकाल के लिए बंद हुए श्री हेमकुंड साहिब के कपाट।

शीतकाल के लिए बंद हुए सिक्खों के पवित्र धाम हेमकुंड साहिब के कपाट।

जोशीमठ।
सिखों के पवित्र धार्मिक स्थल श्री हेमकुण्ट साहिब जी के कपाट आज दिनांक 11 अक्टूबर 2023 को विधिवत् अरदास के साथ ही शीतकालीन सत्र के लिए बंद कर दिए गए यात्रा के आज आखिरी पड़ाव पर गुरू महाराज के दरबार में हाजिरी भरने के लिए प्रातःकाल से ही संगतों का आना शुरू हो गया था। इस पावन अवसर पर लगभग 2500 श्रद्धालुओं ने गुरू दरबार में हाजिरी भरी व गुरू महाराज का आशीर्वाद प्राप्त किया। गुरू महाराज की कृपा से आज अच्छी धूप खिली रही और संगतों ने भी सरोवर के पवित्र अमृत रूपी शीतल जल में स्नान करने का लाभ उठाया।

आज यात्रा की सुखद समाप्ति की अरदास के साथ ही दोपहर 1:10 बजे श्री हेमकुण्ट साहिब यात्रा का समापन हो गया है। अरदास के बाद संगतों द्वारा “जो बोले सो निहाल के जयकारों की गूंज तथा पुष्प वर्षा के साथ बैंड-बाजों की धुनों के बीच पंज प्यारों की अगुवाई में गुरू साहिब जी के स्वरूप को सुखासन स्थान पर नतमस्तक होकर श्रृद्धा से सुशोभित कर दिया गया।

इससे पूर्व आज प्रातः 10 बजे सुखमनी साहिब जी के पाठ की आरंभता हुई तथा समाप्ति प्रातः 11:20 पर ज्ञानी कुलवंत सिंह जी द्वारा की गई तथा दोपहर 12:10 पर मुख्य ग्रंथी भाई मिलाप सिंह जी द्वारा अरदास की गई। अरदास समाप्ति के बाद रागी जत्था भाई गुरप्रीत सिंह व साथी एवं रागी जत्था भाई प्रताप सिंह व साथियों द्वारा किए गए गुरबाणी कीर्तन का गुरू दरबार में उपस्थित संगतों ने भरपूर आनंद लिया। इस वर्ष श्री हेमकुण्ट साहिब जी की यात्रा के लिए 2,62,351 (दो लाख बासठ हजार तीन सौ इक्यावन) यात्रियों ने रजिस्ट्रेशन कराया जिनमें से लगभग 2 लाख 4 हजार श्रद्वालुओं ने गुरू दरबार में उपस्थित होने का सौभाग्य प्राप्त किया।

भारतीय सेना की 418 इंडीपेंडेन्ट इंजीनियर दल के सदस्यों ने भी इस अवसर पर बढ़चढ़ कर अपना योगदान दिया। गुरुद्वारा प्रबंधन ने सेना द्वारा निभाई गई सेवा के लिए सभी जवानों को सिरोपा भेंज करके सम्मानित किया। यात्रा को सफलतापूर्वक संपन्न कराने के लिए गुरूद्वारा प्रबंधन ने उत्तराखण्ड राज्य के माननीय राज्यपाल रिटा०ले०ज० सरदार गुरमीत सिंह जी, मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी जी एवं मुख्य सचिव सरदार एस. एस. संधु जी का विशेष धन्यवाद किया। साथ ही शासन-प्रशासन एवं सभी विभागों को बधाई देते हुए भविष्य में भी सहयोग की आशा के साथ यात्रा निर्विघ्न रूप से सफल व सुखद बनाने हेतु अन्य समस्त सहयोगियों का भी आभार प्रकट किया गया।

इस धार्मिक व पावन अनुष्ठान के अविस्मरणीय समय पर अधोहस्ताक्षरी स्वयं उपस्थित थे उन्होंनें सभी का हृदय से धन्यवाद किया। साथ में गुरूद्वारा गोविंद घाट के प्रबंधक सरदार सेवा सिंह जी, गुरूद्वारा हेमकुण्ट साहिब के प्रबंधक सरदार गुरनाम सिंह के अलावा देश-विदेश से पहुंचे हजारों की संख्या में श्रृद्धालु मौजूद थे जिनका गुरुद्वारा ट्रस्ट की ओर से हार्दिक स्वागत व धन्यवाद किया।

गुरुद्वारा ट्रस्ट आशा करता हैं कि भविष्य में भी सभी के सहयोग से आगामी वर्ष की यात्रा भी निर्विघ्न रूप से सफल व सुखद होगी। यात्रियों के लिए ट्रस्ट द्वारा यात्रा के सभी पड़ावों में रात्रि विश्राम व लंगर आदि सुख-सुविधाओं में बढ़ोत्तरी करके आगामी वर्ष की यात्रा को और सुगम बनाने के प्रयास किए जाएगें।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *