तीर्थयात्रियों को संकट में देख गौण्डार गांव की महिलाओं ने अपने सभी काम छोड़कर हेलीपैड बनाने में जुटे।

तीर्थयात्रियों को संकट में देख गौण्डार गांव की महिलाओं ने अपने सभी काम छोड़कर हेलीपैड बनाने में जुटे।

ऊखीमठ/रुद्रप्रयाग: 14 अगस्त को मदमहेश्वर यात्रा के आधार शिविर बनातोली में नदी पर बने पुल के तेज धाराओं में समाने के बाद शासन – प्रशासन व गौण्डार गाँव के ग्रामीणों ने कठिन चुनौतियों के बाद जिस तत्परता से कार्य किया है वह काबिलेतारीफ है। मात्र दो दिन की अवधि में महिलाओं द्वारा नानू यात्रा पडा़व पर नौनिहालों को गोद में लेकर हैलीपैड का निर्माण करने से समाज में नई मिशाल कायम हुई है, वहीं शासन – प्रशासन स्तर से मात्र तीन दिनों में 293 तीर्थ यात्रियों का रेकस्यू कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने से स्पष्ट हो गया है कि आपदा के समय शासन व प्रशासन का हर व्यक्ति अपने जिम्मेदारियों के प्रति 24 घन्टों सजग रहकर हर चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है।

14 अगस्त को मदमहेश्वर धाम सहित यात्रा पड़ावों पर 293 तीर्थ यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने शासन – प्रशासन के लिए चुनौतीपूर्ण तो था मगर जिस प्रकार रेकस्यू करने , तीर्थ यात्रियों के रहने – खाने की समुचित व्यवस्था जो मदमहेश्वर धाम के तीर्थ पुरोहित समाज , व्यापारियों व गौण्डार के ग्रामीणों द्वारा सहयोग किया गया वह हमेशा इतिहास के पन्नों पर अंकित रहेगा। 14 अगस्त को घटना घटित होने के बाद 15 अगस्त को मौसम के बार – बार खराब होने के बाद एक तरफ तीर्थ यात्रियों को रेकस्यू करने की चुनौती थी तो दूसरी तरफ नानू यात्रा पडा़व में शिवदेई देवी, शिवानी देवी, जानकी देवी, सरोजा देवी, प्रीति देवी, पूजा देवी, सुनीता देवी, कुवरी देवी, नीलम देवी, पारेश्वरी देवी, बिशाम्बरी देवी सहित अनेक महिलाओं व व्यापारियों द्वारा हैलीपैड बनाने में जो अपना योगदान दिया उससे ही बुधवार को रेकस्यू अभियान सफल हो पाया है। मदमहेश्वर धाम सहित यात्रा पड़ावों पर व्यापारियों द्वारा सभी तीर्थ यात्रियों की समुचित व्यवस्था करने तथा गौण्डार गाँव के ग्रामीणों द्वारा रेकस्यू अभियान में जो समर्पण भावना से कार्य किया वह हमेशा स्वर्णिम अक्षरों में अंकित रहेगा। रेकस्यू अभियान में प्रदेश सरकार, केदारनाथ विधायक श्रीमती शैलारानी रावत, भाजपा महिला मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष आशा नौटियाल, जिला पंचायत सदस्य कालीमठ विनोद राणा सहित आम जनता का सहयोग भी सराहनीय रहा है। रेकस्यू अभियान में जिला प्रशासन, तहसील प्रशासन, एस डी आर एफ, एन डी आर एफ, आपदा प्रबंधन, वन विभाग, मन्दिर समिति, स्वास्थ्य विभाग , लोक निर्माण विभाग सहित अनेक विभागों की सहभागिता से ही मात्र तीन दिनों में 293 तीर्थ यात्रियों का सफल रेकस्यू हो पाया है। भाजपा ऊखीमठ मण्डल महामंत्री दलवीर सिंह नेगी का कहना है कि रेकस्यू अभियान में शासन – प्रशासन के मुस्तैदी से कार्य करने के बाद ही अल्प समय में रेकस्यू अभियान सफल हुआ है! मदमहेश्वर घाटी विकास मंच पूर्व अध्यक्ष मदन भटट्, प्रधान गडगू बिक्रम सिंह नेगी, पाली–सरकार प्रेमलता पन्त ने नानू में हैलीपैड निर्माण में अहम योगदान देने वाली महिलाओं को प्रदेश स्तर पर सम्मानित करने की मांग की है। जिला पंचायत सदस्य परकण्डी रीना बिष्ट ने कहा कि रेकस्यू अभियान में मदमहेश्वर धाम के हक–हकूकधारियों, व्यापारियों, गौण्डार के ग्रामीणों व शासन–प्रशासन व मदमहेश्वर घाटी के जनमानस का जो योगदान रहा वह काबिलेतारीफ है।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed