दुःखद खबर: यहाँ आंगन में खेल रहे 11 साल के मासूम बच्चे पर गुलदार ने किया हमला,डॉक्टरो ने बच्चे की जांच करने के बाद किया मृत घोषित।

खिर्सू ब्लॉक के ग्वाड़ गांव में आंगन में खेल रहे 11 साल के बच्चे पर गुलदार ने किया हमला,डॉक्टरो ने बच्चे की जांच करने के बाद किया मृत घोषित।

श्रीनगर (पौड़ी)।
श्रीनगर में आज बड़ी दुर्घटना घटित हो गयी है यहां खिर्सू ब्लॉक के ग्वाड़ गांव में आंगन में खेल रहे 11 साल के बच्चे पर गुलदार ने हमला कर बुरी तरह घायल कर दिया।आनन फानन में गांव वालों की मदद से बच्चे को बेष अस्पताल श्रीकोट लाया गया। जहाँ डॉक्टरो ने बच्चे की जांच करने के बाद उसे मृत करार दिया। घटना के बाद से जहा अंकित की माँ का रो रो कर बुरे हाल है तो वही इस घटना के बाद से गांव में मातम पसर गया है। साथ मे लोगो मे गुलदार को लेकर डर बैठ गया है। लोगो ने गुलदार को पकडने की मांग वन विभाग से की है। वही घटना की जानकारी मिलने के बाद वन विभाग की टीम रेंजर ललित मोहन नेगी के नेतृत्व में गांव में पहुची, जहा टीम ने घटना स्थल का निरीक्षण भी किया। विभाग अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का इंतजार कर रहा है। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्यवाही की जाएगी।घटना के अनुसार 11 साल का अंकित अपने तीन अन्य दोस्तो के साथ घर के ही बगल के आंगन में कंचे खेल रहा था तभी एक कंचा खेलते खेलते दूर गिर गया अंकित कंचे की तलाश में आगे निकला तो उस पर गुलदार ने हमला कर दिया और उसे बुरी तरह घायल कर दिया आनन फानन अंकित को बेष अस्पताल श्रीकोट लाया गया। जहां डॉक्टरों ने अंकित को मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि अंकित की मॉ ग्रहणी है जबकि पिता चंडीगढ में नोकरी करते है।वही मौके पर पहुची वन विभाग की एसडीओ लक्की सिंह ने बताया कि सनिवार देर सायं उन्हें ग्वाड़ गांव में बच्चे पर गुलदार के हमले की सूचना मिली थी जिसपर वन विभाग की टीम मौके पर पहुची ओर गांव में वन विभाग की एक टीम को गस्त के लिए भेजा गया है उन्होंने बताया कि बच्चे के पेट मे गुलदार के नाखूनों के निसान है लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का वेट किया जा रहा है उसी के बाद आगे की कार्यवाही को अमल में लाया जाएगा वही श्रीनगर सीओ रविन्द्र चमोली ने बताया वे भी ग्वाड़ गांव जाकर घटना की जांच कर रहे है घटना स्थल पर पुलिस टीम भी मौजूद है पोस्टमार्टम आने के बाद ही घटना के असल वजह पता लग सकेगी की बच्चे की मौत किन वजहों से हुई है।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed