महाविद्यालय कर्णप्रयाग में ली गई हिमालय बचाओ शपथ, साथ ही विभिन्न कार्यक्रम किये गए आयोजित।।

हिमालय दिवस पर महाविद्यालय कर्णप्रयाग में ली गई हिमालय बचाओ शपथ, साथ ही विभिन्न कार्यक्रम किये गए आयोजित।

कर्णप्रयाग।

डॉ शिवानंद नौटियाल राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय कर्णप्रयाग मे “हिमालय दिवस” पर हिमालय बचाओ अभियान के तहत विभिन्न कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। महाविद्यालय परिसर मे प्राचार्य प्रोफेसर के एल तलवाड़ ने छात्र एंव छात्राओ को हिमालय प्रतिज्ञा दिलवाते कहॉ कि हिमालय हमारे देश का मस्तक है। हमे इसके संरक्षण के लिए बढ़कर आगे आने चाहिए। सभी छात्र एंव छात्राओ को हिमालय दिवस की शुभकामनाएं दी।

हिमालय दिवस के अवसर पर भूगोल विभाग मे विभिन्न प्रतियोगिताओ का आयोजन किया गया। स्लोगन प्रतियोगिता मे मोनिका प्रथम, सपना द्वितीय, पोस्टर प्रतियोगिता मे शिवानी प्रथम, किरन द्वितीय स्थान पर रही।निबन्ध प्रतियोगिता मे किरन, श्वेता,सारिका थपलियाल, क्रमश प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान पर रहे।भाषण प्रतियोगिता मे मोनिका , प्रेमा , क्रमशः प्रथम द्वितीय स्थान पर रही। प्रतियोगिता मे प्रथम द्वितीय एंव तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले छात्र एंव छात्राओ को महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर के एल तलवाड़ एंव डॉ एम एस कण्डारी, डॉ तौफिक अहमद, डॉ आर सी भट्ट, डॉ नरेंद्र पंघाल द्वारा पुरूस्कार प्रदान किए गए।

इस अवसर पर भूगोल विभाग प्रभारी डॉ तौफिक अहमद ने छात्र एंव छात्राओ को सम्बोधित कर कहॉ आज हमारे समाने बहुत सी चुनौतियां है। हमे हिमालय क्षेत्र हो रहे अवैध गतिविधियो पर बिशेष ध्यान देकर रोकने का प्रयास करना होगा। डॉ आर सी भट्ट ने छात्र एंव छात्राओ को सम्बोधित करते हुए कहा कि हिमालय क्षेत्र मे हो रहे परिवर्तन के लिए हम सब जिम्मेदार है। हिमालय क्षेत्र मे पिघल कुछ दशको से जिस तरह मानवीय गतिविधियो बढी है। उसका स्पष्ट प्रभाव यहॉ के जलवायु पर देखा जा सकता है।

ग्लोबल वार्मिंग के कारण अवैध गतिविधियो से ग्लेशियर का पिघलना,जैव विविधता का ह्रास, प्राकृतिक रूप मे जीव जन्तु का वास स्थल का समाप्त होने के कारण आज कई समस्याओ का समाना हिमालय क्षेत्र का करना पड रहा है। हिमालय हमारे जल,जीवन, और पर्यावरण का मुख्य आधार है। हमे इसके संरक्षण के लिए बिशेष प्रयास करने होगे तभी इस दिवस की सार्थकता होगी। डॉ नरेंद्र पंघाल कहा कि नई पीढी को हिमालय के प्रति चेतना के लिए आगे आकर समाज को भी जागरूक करना होगा। इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त प्राध्यापक एंव शिक्षकेत्तर कर्मचारी भूगोल विषय के समस्त छात्र एंव छात्राये कार्यक्रम मे उपस्थित थे।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *