ब्रेकिंग: प्रदेश में जड़ी-बूटी, इको टूरिज्म, हर्बल और एरोमा पर्यटन को ऐसा मिलेगा बढ़ावा, मुख्य सचिव ने सबन्धित विभागों एवं हितधारकों के साथ की बैठक।

राज्य में जड़ी-बूटी, इको टूरिज्म, हर्बल और एरोमा पर्यटन को ऐसा मिलेगा बढ़ावा, मुख्य सचिव ने सबन्धित विभागों एवं हितधारकों के साथ की बैठक।

देहरादून। मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु ने सचिवालय में प्रदेश में जड़ी-बूटी, इको टूरिज्म, हर्बल और एरोमा पर्यटन को बढ़ावा देने हेतु सम्बन्धित विभागों एवं हितधारकों के साथ बैठक कर इस व्यवसाय में आ रही समस्याओं और सरकार द्वारा दिये जाने वाले सहयोग के सम्बन्ध में विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश को प्रकृति ने जड़ी-बूटियों से भरपूर वन सम्पदा और इसके उत्पादन के लिए उचित प्राकृतिक वातावरण दिया है, जिसे प्रदेश के युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने एवं प्रदेश की आर्थिकी बढ़ाने में उपयोग किया जा सकता है। मुख्य सचिव ने इसकी पॉलिसी तैयार करते समय सभी हितधारकों के अच्छे सुझावों को शामिल करते हुए एक ऐसी पॉलिसी तैयार किए जाने के निर्देश दिए जिससे एक सकारात्मक माहौल तैयार हो। उन्होंने आमजन में जड़ी-बूटियों और औषधीय पादपों के सम्बन्ध में छोटे-छोटे वीडियोज के माध्यम से जानकारी उपलब्ध कराए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि अधिक से अधिक वन मेलों का आयोजन कर अधिक से अधिक जानकारी उपलब्ध करायी जाए। उन्होंने कहा कि वन पंचायतों में जड़ी-बूटी उत्पादन के साथ ही वैल्यू एडीशन एवं अन्य प्रकार के कार्यों के लिए स्थानीय स्वयं सहायता समूहों को भी शामिल किया जाए। उत्पादों की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में टेस्टिंग लैब स्थापित की जाएं।

उन्होंने कहा कि प्रदेशभर में खाली पड़ी बंजर जमीनों में औषधीय पौधों की खेती को बढ़ावा दिया जाए और जड़ी-बूटी, इको टूरिज्म, हर्बल और एरोमा पर्यटन को बढ़ावा देने, इस क्षेत्र से जुड़े विशेषज्ञों को शामिल करते हुए शोध एवं विकास की दिशा में भी कार्य किया जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि इस क्षेत्र में स्टार्टअप को भी बढ़ावा दिए जाने हेतु व्यवस्था सुनिश्चित की जाए और ऑर्गेनिक सर्टिफिकेशन मैकेनिज्म तैयार किया जाए। उन्होंने उत्पादन से लेकर मार्केटिंग आदि से सम्बन्धित प्रशिक्षण कार्यक्रमों को भी तैयार कर सभी को प्रशिक्षित किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि ड्रग मैन्युफैक्चरिंग लाइसेंस की प्रक्रिया को भी सरलीकृत किया जाए एवं मार्केटिंग और रिटेल आउटलेट को भी अधिक से अधिक बढ़ाया जाए। बैठक के दौरान हितधारकों की ओर से भी अच्छे सुझाव प्राप्त हुए।

इस अवसर पर प्रमुख सचिव श्री आर.के. सुधांशु, एपीसीसीएफ श्री जी.एस. पाण्डे, सचिव श्री दीपेन्द्र कुमार चौधरी, निदेशक सेंटर फॉर एरोमैटिक प्लांट डॉ. निर्पेन्द्र चौहान सहित अन्य हिताधारक एवं प्रतिनिधि उपस्थित थे।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *